जलवायु परिवर्तन तथा सतत ढांचागत विकास विषय पर पाठ्यक्रम प्रारंभ

– एक सप्ताह तक चलने वाले कार्यक्रम में जलवायु परिवर्तन तथा सतत तकनीकी उपायों को लेकर होगी चर्चा

4 June 2018, Faridabad www.newsymca.com News YMCA YMCA University Faridabad

 

www.newsymca.com,News YMCA, news ymca,ymca news,faridabad news,news faridabad,ballabgarh,ballabgarh news,palwal news,news palwal,palwal,faridabad,ymca university faridabad,news ymca university,ymcaust,ymca ust,ymca ust news,news ymca ust,ymcaust faridabad,ymca ust faridabad news,ymcaust news,new delhi news,delhi ncr news,news delhi ncr,haryana,haryana news,news haryana,news ymca ust,faridabad city,faridabad city news,ymca university, delhi-ncr,faridabad,College news,campus news,faridabad college, college in faridabad,delhi university,delhi university news,du,du news,mdu,mdu rohtak,mdu rohtak news,colleges in gurugram,colleges in gurgaon,education, education news,university news,engineering colleges,engineering colleges in faridabad,engineering colleges in palwal,engineering colleges in noida,engineering colleges in gurgaon,engineering colleges in gurugram,noida college,colleges in noida, noida news,noida,university in noida,newsymca,ymcanews,  M.sc chemistry,HAS Department,
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार।
फरीदाबाद, 4 जून – वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद द्वारा जलवायु परिवर्तन तथा सतत ढांचागत विकास पर साप्ताहिक अल्पावधि पाठ्यक्रम (एसटीसी) प्रारंभ हो गया, जिसमें फरीदाबाद तथा एनसीआर क्षेत्र से विभिन्न शिक्षण संस्थानों से 60 से अधिक प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है। पाठ्यक्रम को मानविकी एवं विज्ञान विभाग तथा राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईटीटीटीआर), चंडीगढ़ द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जा रहा है।
पाठ्यक्रम का शुभारंभ कुलपति प्रो. दिनेश कुमार तथा अध्यक्ष मानविकी एवं विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. राज कुमार ने की। इस अवसर पर डीन (अकादमिक) डॉ. विक्रम सिंह भी उपस्थित थे। पाठ्यक्रम का संचालन डॉ. रेनूका गुप्ता तथा एनआईटीटीटीआर की ओर से हिम्मी गुप्ता द्वारा किया जा रहा है।
www.newsymca.com,News YMCA, news ymca,ymca news,faridabad news,news faridabad,ballabgarh,ballabgarh news,palwal news,news palwal,palwal,faridabad,ymca university faridabad,news ymca university,ymcaust,ymca ust,ymca ust news,news ymca ust,ymcaust faridabad,ymca ust faridabad news,ymcaust news,new delhi news,delhi ncr news,news delhi ncr,haryana,haryana news,news haryana,news ymca ust,faridabad city,faridabad city news,ymca university, delhi-ncr,faridabad,College news,campus news,faridabad college, college in faridabad,delhi university,delhi university news,du,du news,mdu,mdu rohtak,mdu rohtak news,colleges in gurugram,colleges in gurgaon,education, education news,university news,engineering colleges,engineering colleges in faridabad,engineering colleges in palwal,engineering colleges in noida,engineering colleges in gurgaon,engineering colleges in gurugram,noida college,colleges in noida, noida news,noida,university in noida,newsymca,ymcanews,  M.sc chemistry,HAS Department,
दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार व अन्य।
उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने जलवायु परिवर्तन को एक बड़ी चुनौती बताते हुए कहा कि जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए सतत तकनीकी उपायों को बढ़ावा देना होगा। फरीदाबाद के संदर्भ में विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कुलपति ने कहा कि फरीदाबाद शहर को विश्व के दूसरे सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में शामिल किया गया है, जिस पर शिक्षाविद्ों तथा तकनीकीविद्ों को गंभीरता से सोचने की आवश्यकता है कि किसी प्रकार सतत विकास को पर्यावरण मैत्री बनाया जाये और बढ़ते प्रदूषण पर रोकथाम लगाई जाये। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक उत्पादों के उपयोग को न्यूनतम करने के साथ-साथ हमें प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए एकजुट होकर प्रयास करने होंगे और हरित तकनीक को बढ़ावा देना होगा।
सत्र को संबोधित करते हुए प्रो. राज कुमार ने कहा कि पाठ्यक्रम के लिए विषय आज के संदर्भ में प्रासंगिक है क्योंकि जिस प्रकार से पर्यावरण प्रदूषण बढ़ रहा है, यदि समय रहते उपाय नहीं किये गये तो मानव जीवन का अस्तित्व खतरे में पड़ जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए हरित तकनीकों को अपनाना होगा। सत्र को डीन (अकादमिक) डॉ. विक्रम सिंह ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर प्रो. राज कुमार ने कुलपति प्रो. दिनेश कुमार को पुस्तक भेंट की।
www.newsymca.com,News YMCA, news ymca,ymca news,faridabad news,news faridabad,ballabgarh,ballabgarh news,palwal news,news palwal,palwal,faridabad,ymca university faridabad,news ymca university,ymcaust,ymca ust,ymca ust news,news ymca ust,ymcaust faridabad,ymca ust faridabad news,ymcaust news,new delhi news,delhi ncr news,news delhi ncr,haryana,haryana news,news haryana,news ymca ust,faridabad city,faridabad city news,ymca university, delhi-ncr,faridabad,College news,campus news,faridabad college, college in faridabad,delhi university,delhi university news,du,du news,mdu,mdu rohtak,mdu rohtak news,colleges in gurugram,colleges in gurgaon,education, education news,university news,engineering colleges,engineering colleges in faridabad,engineering colleges in palwal,engineering colleges in noida,engineering colleges in gurgaon,engineering colleges in gurugram,noida college,colleges in noida, noida news,noida,university in noida,newsymca,ymcanews,  M.sc chemistry,HAS Department,
कुलपति प्रो. दिनेश कुमार को पुस्तक भेंट करते हुए प्रो. राज कुमार।
डॉ. रेनूका ने बताया कि छह दिवसीय पाठ्यक्रम के दौरान दस विशेषज्ञ सत्र आयोजित किये जायेंगे, जिसमें जलवायु परिवर्तन, हरित निर्माण, सतत उर्जा, वायु प्रदूषण एवं स्वास्थ्य, निर्माण उद्योग में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के उपायों को लेकर विभिन्न विषयों पर चर्चा की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here