वाईएमसीए विश्वविद्यालय को रूसा के तहत 20 करोड़ रुपये आवंटित

विश्वविद्यालय का ढांचागत विकास तथा सुविधाओं का विस्तार रहेगी प्राथमिकताः कुलपति प्रो. दिनेश कुमार

FB IMG 15281264364433864 - YMCA University gets 20 Crore under RUSA Scheme4 June 2018 Faridabad, www.newsymca.com News YMCA

फरीदाबाद, 4 जून – वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद को राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) योजना के दूसरे चरण के अंतर्गत विकास कार्याें के लिए 20 करोड़ रुपये का फंड आवंटित हुआ है। रूसा केन्द्रीय सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा प्रायोजित योजना है, जिसका उद्देश्य देश में उच्चतर शिक्षण संस्थानों को उनकी पात्रता के अनुरूप ढांचागत, अकादमिक तथा अनुसंधान विकास के लिए वित्तीय सहयोग प्रदान करना है।
सभी राज्य सरकारों के प्रस्तावों के आधार पर फंड प्रतिबंधों को अंतिम रूप देने के लिए रूसा की 12वीं परियोजना स्वीकृति बोर्ड की बैठक में विश्वविद्यालय द्वारा ढांचागत विकास को लेकर दिये गये प्रस्ताव को भी अनुमोदित किया गया। इस अनुदान का उपयोग विश्वविद्यालय द्वारा नये निर्माण कार्याें, नवीनीकरण गतिविधियों तथा उपकरणों की खरीद पर किया जायेगा। योजना के तहत हरियाणा से चार विश्वविद्यालयों का चयन किया गया है।
विश्वविद्यालय के प्रस्ताव को स्वीकृति मिलने पर प्रसन्नता जताते हुए कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि इस अनुदान से विश्वविद्यालय में नये पाठ्यक्रमों के लिए ढांचागत विकास संबंधी जरूरतों को पूरा करने तथा अनुसंधान सुविधाओं को सुदृढ़ करने में बल मिलेगा। इससे विश्वविद्यालय के विकास को गति मिलेगी। केन्द्रीय अनुदान से विश्वविद्यालय में प्रयोगशालाओं का विस्तार, कक्षाओं का नवीनीकरण, पुस्तकालय तथा उपकरणों की खरीद करना प्राथमिकता रहेगी।
उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय द्वारा जुलाई में शुरू होने वाले सत्र से अंडरग्रेजुएट स्तर पर इंजीनियरिंग, विज्ञान तथा मैनेजमेंट के नये पाठ्यक्रम शुरू किये जा रहे है। नये पाठ्यक्रमों में सिविर इंजीनियरिंग में बीटेक, एनीमेशन एवं मल्टीमीडिया में बीएससी, मैथ तथा कैमिस्ट्री बीएससी ऑनर्स, बीसीए तथा बीबीए शामिल हैं।
कुलपति ने विश्वविद्यालय में योजना के संयोजक प्रो. कोमल कुमार भाटिया के प्रयासों की सराहना भी की तथा कार्य योजना बनाने के निर्देश दिये ताकि योजना के अंतर्गत आवंटित फंड समुचित उपयोग सुनिश्चित हो सके।
गौरतलब है कि रूसा योजना के अंतर्गत नैक मान्यता प्राप्त ग्रेड ‘ए’ व ‘बी’ विश्वविद्यालय एवं कालेज ही अनुदान प्रापत कर सकते है। वाईएमसीए विश्वविद्यालय ने नवम्बर, 2016 में नैक की ग्रेड ‘ए’ मान्यता प्राप्त की थी, जो अगले पांच वर्षों के लिए मान्य है। 
विश्वविद्यालय के विभिन्न कार्यक्रमों को हाल ही में राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड (एनबीए) से भी मान्यता प्राप्त हुई है। इसके अलावा, विश्वविद्यालय का चयन विश्व बैंक से सहायतार्थ तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम (टीईक्यूआईपी-3) के अंतर्गत हुआ था, जिससे विश्वविद्यालय को सात करोड़ करोड़ रुपये का फंड आवंटित हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here